चल पडी हु..

चल पडी हु अब मैं हैं नया सा एक सफर ना भूत कि छवी ना भविष्य का डर आंखो मे कुछ सपने हैं हां दिल मे कुछ दर्द भी नमी हैं आंखो में मौसम कुछ सर्द भी कुछ कर दिखानेका जुनून और साथ मे हैं कुछ हुनर बस चल पडी हु अब नये सफर पर।। …

Continue reading चल पडी हु..