बस यूहि…

जो आसानी से मिल जाये उसकी कदर कहा होती है.. जितने जल्द मिल जाये उतनी हि किमत कम होती है.. कोशिश करो कोइ तुम्हे इतने भी आसानी से ना पा पाये.. कि तुम्हारे होने ना होने कि किमत हि शून्य हो जाये.. - सुवर्णा (मेघा).

जो भी होता है…..

लोग अक्सर केहते है, जो भी होता है अच्छे के लिये होता है...  कोइ समझाये मुझे, किसी के गुजर जाने मे कौनसी अच्छाई होती है? कोइ बतलाये मुझे,  दिल के टूटने से क्या अच्छा होता है? कोइ ये बताये मुझे, किसी अपने से दूर होने मे क्या अच्छा होत है?  किसी के सपने टूटने मै …

Continue reading जो भी होता है…..