हार ना मानुंगी…!❤

अक्सर सपने टूट जाते हैं.. पर तब भी सपने देखुंगी मै... किस्मत के आगे ना झुकुंगी मै... टूटना हि है तो टूट जाये सपने... पर कोशिश किये बिन ना हारुंगी मै...! - सुवर्णा (मेघा).

उडना है मुझे…

उडना है मुझे आझाद परिंदो के तरह... बढना है मुझे प्रगती कि ओर.. तेज रफ्तार से! कोइ जंजीरे नही हो पैरो मे... कोइ बंधन ऐसा भी ना हो जो रोक ले मुझे... कुछ ऐसा कर जाना है मुझे... कुछ बनकर दिखाना है मुझे...!!! हवाओ का रुख मोड देना है,  उस विचार को तोड देना है, …

Continue reading उडना है मुझे…