खामोश… ❤

खामोश हु मै तो सिर्फ तेरे खुशी के खातिर…

वरना दर्द तो मुझे भी होता है,

और 

मन तो मेरा भी रोता हैं…!

खामोश हु मै तो सिर्फ तेरे खुशी के खातिर…

वरना आग तो मेरे भी सीने मे उठती हैं,

और 

दिल तो मेरा भी तडपता हैं…!

खामोश हु मै तो सिर्फ तेरे खुशी के खातिर…

वरना ज्वाला तो मेरे भी अंदर है,

और 

सच बताउ तो यहा भी 

भावनाओ का समंदर हैं…! 

खामोश हु तो सिर्फ तेरे खुशी के खातिर…!!!❤

– सुवर्णा (मेघा). 

Advertisements

34 thoughts on “खामोश… ❤

  1. The creative dude

    आपकी ख़ामोशी में गज़ब का एहसास है,
    बिन कहे अल्फाजो में भी खुशनुमा एहसास है
    अब तारीफ करू भी तो कैसे
    अब तो लफ्जो का खजाना भी आपके पास है।

    Truly awesome , mam !

    Liked by 1 person

  2. ANM7

    I am not sure if this post is designed, active in revealing the loved one as having a “like” mindedness in occupation? Nonetheless, I find it intriguing and creative. Thanks.

    Liked by 1 person

    1. Let me explain you what the post is about,

      So there is someone who is hurt but still silent just for the sake of her/his loved one’s happiness! And at the same time, with her words, she is expressing her feelings behind her silence.
      I hope, it will help you to understand my post, sir. 🙂

      Liked by 1 person

  3. ख़ामोश सोच के पीछे भी एक सच छिपा होता है। लोग खुद में ही मशरूफ रहते है ख़्वाबों से सामना होता है ।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s